Books

It-All-Abides-in-Love-3D-BookIt All Abides in Love: Maharajji Neem Karoli Baba by Jai Ram Ransom was released by Taos Music & Art, Inc. on Apple’s iBooks and Amazon’s Kindle in August 2014. The Paperback went on sale September 1, 2014.

Ram Dass introduced Maharajji Neem Karoli Baba to Western spiritual seekers of the 60s and 70s. “It All Abides in Love” offers a contemporary view of this remarkable and completely enigmatic Indian sadhu, a spiritual renunciate who had more of an impact on America than anyone knows. Maharajji is known as the Miracle of Love. Maharajji raised the dead, turned water into milk or gasoline, made Himself and others with Him to become invisible, cured many diseases, and never really gave any formal ‘teachings’. And it is still happening. Who is Maharajji Neem Karoli Baba? That is explored by the author in this thought provoking book.

This is about finding the most precious lotus flower jewel amazing person of light and love. A little man in a little world who was actually bigger than all of the universe, if one believes the reports. Maharajji’s images and stories ARE The Story, and they are worthy of the deepest contemplation. All of us have so much that we can learn from Maharajji about how to be a force for good in the world. Indeed, perhaps you can learn to do your own miracles. Maharajji manipulated this game in such perfect ways, and yet He always remains hidden, as even now.

The book was written during the first four months of 2014 at a retreat space in northern Thailand near Chiang Mai after a visit to India. The book was edited between April and August in Taos New Mexico USA.


प्रेम में सर्वस्व बसता है

Prem MeN Sarvasara Basta Hai

Maharajji Baba Nib Karori

Coming Soon

Being Translated Now

Projected Book Launch Summer 2017

परिचय

महाराजजी की हर एक लीला को हर बार विधि पूर्वक और पक्के तौर पर दोहराना शायद आवश्यक नहीं है l यही एक महत्वपूर्ण कारण है कि महाराजजी की किताबों तथा कहानियों को मुद्रित तथा वितरित किया गया है, और महाराजजी की वेबसाइट को विकसित किया गया है l ये कहानियाँ पत्थरों पर उत्कीर्ण हैं क्योंकि ये बहुत महत्वपूर्ण हैं l लेकिन महाराजजी इतिहास के बारे में नहीं हैं l ये इतिहास का सबक बिलकुल भी नहीं हैं l यह उस आदमी की कहानी नहीं है जो भारत में पैदा हुआ, एक जीवन जिया और फिर उसका निधन हो गया l वास्तव में ऐसा दूर दूर तक भी नहीं हुआ, अथवा हो रहा है l

महाराजजी की लीला एक बहुत लम्बे समय से चल रही है l यह केवल अब है कि इन लीलाओं का एक बेहद व्यापक पैमाने पर खुलासा हो रहा है l सच तो यह है कि महाराजजी के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अब हम सब यह जानते हैं कि महाराजजी अस्तितव में हैं l आप सोच सकते हैं कि “अस्तित्व में हैं” भूतकाल में कहा जाना चाहिए l यह गलत होगा l इन लीलाओं की कहानियाँ बस ऐतिहासिक घटनाएँ नहीं हैं l ये एक नए साकार हुए तथ्य का उदहारण हैं जिसका आख़िरकार पता चल ही गया l

जो लोग महाराजजी की लीलाओं पर गहन शोध करते हैं वे महसूस करते हैं कि हमारे बीच महाराज जी जैसे ऊर्जा वाले व्यक्तित्व की गतिविधियों का रुकना असम्भव है l संसार में सब अच्छाइयों के पीछे महाराजजी ही प्रत्यक्ष शक्ति हैं l उनकी लीलाएँ जारी रहेंगी l इसका कारण यह है कि ये लीलाएँ वे ऊर्जाएँ हैं जिनकी पृथ्वी पर मनुष्यों द्वारा महसूस किये जाने की शुरुआत हो चुकी है l

महाराजजी ने यह सब नहीं किया l जो महाराजजी कर सकते हैं वो कोई मनुष्य नहीं कर सकता l हमें यह समझना है कि महाराजजी जैसे जीवात्मा का पृथ्वी पर आविर्भाव उन अति मतिभ्रष्ट पाश्विक मानसिकता वाले असंवेदी मनुष्यों से जुड़ी हुई लालची, भक्षक, ईर्ष्यालु, भयंकर,दमनकारी और युद्ध जैसी प्रवृत्तियों से दूर करवाने की पूर्ण क्षमता का एहसास करवाने वाला अगला चरण है।